Monday, 25 November 2013

सिर्फ तू चाहिए





ज़िन्दगी के हर पल में, मुझे तेरा साथ चाहिए

मेरे शब्दों को तेरा समर्थन चाहिए

हर एक सपने में तेरी तस्वीर चाहिए

गिरते हुए अंशु को तेरा किनारा चाहिए

हर एक कविता को तेरी प्रेरणा चाहिए

हर एक गीत को तेरा सुर चहिये

मेरे हर साँस में तेरे खुशबू चाहिए

मुझे सिर्फ तू और तू चाहिए............

इन लबों को तेरे लबों का एहसाह चाहिए

इस तन को तेरे हाथों का स्पर्श चाहिए

सूरज की पहली किरण,बारिस की पहली बूंद मैं तेरा साथ चाहिए

जाड़ों की ठंडी हवाओ मैं तेरे हाथों हर चाहिए


मुझे सिर्फ तू चाहिए सिर्फ तू चाहिए

वामनावतार रक्षाबंधन पौराणिक कथा एक सौ 100 यज्ञ पूर्ण कर लेने पर दानवेन्द्र राजा बलि के मन में स्वर्ग का प्राप्ति की इच्छा बलवती हो गई त...