Sunday, July 4, 2021

जब ख़ुदा से लव लगाई जाएगी- sanjar gazipuri

 जब ख़ुदा से लो लगाई जाएगी

फिर दुआ कब कोई ख़ाली जाएगी

ताकते हैं दिल वो मेरा बार बार

क्या कोई हसरत निकाली जाएगी

आँख मिलते ही किसी मा'शूक़ से

फिर तबीअ'त क्या सँभाली जाएगी

गर कभी चमकेगी वो बर्क़-ए-जमाल

आँख फिर कब उस पे डाली जाएगी

हाय कब होगा उन्हें मेरा ख़याल

आह बेकस की ख़ाली जाएगी

छोड़िए अब शर्म ये फ़रमाइए

हसरत दिल की कब निकाली जाएगी

सोंंच कर ये उन को छेड़ा हम ने आज

मुँह से उन के कुछ दुआ ली जाएगी

कम-सिनी की ज़िद जवानी में भी है

इन की कब ये ख़ुर्द-साली जाएगी

सख़्त-जाँ 'संजर' हुआ है इश्क़ में

तेग़ अब क़ातिल की ख़ाली जाएगी

आप सभी पाठक मित्रो के सहयोग से मेरी काव्य संकलन की पुस्तक " उड़ान " प्रकाशित हो गई है।  आप सब का हार्दिक धन्यवाद।



BUY BOOK ONLINE
Link to buy book



Friday, June 18, 2021

तू ख़ुद की खोज में निकल तू किस लिए हताश है-तनवीर ग़ाज़ी

 तू खुद की खोज में निकल

तू किस लिए हताश है,
तू चल तेरे वजूद की
समय को भी तलाश है

जो तुझ से लिपटी बेड़ियाँ
समझ न इनको वस्त्र तू 
ये बेड़ियां पिघाल के
बना ले इनको शस्त्र तू
बना ले इनको शस्त्र तू
तू खुद की खोज में निकल

तू किस लिए हताश है, तू चल तेरे वजूद की
समय को भी तलाश है
समय को भी तलाश है
चरित्र जब पवित्र है
तो क्यों है ये दशा तेरी
ये पापियों को हक़ नहीं
कि ले परीक्षा तेरी
कि ले परीक्षा तेरी
तू खुद की खोज में निकल
तू किस लिए हताश है तू चल, तेरे वजूद की
समय को भी तलाश है

जला के भस्म कर उसे
जो क्रूरता का जाल है
तू आरती की लौ नहीं
तू क्रोध की मशाल है
तू क्रोध की मशाल है
तू खुद की खोज में निकल
तू किस लिए हताश है
तू चल तेरे वजूद की
समय को भी तलाश है
समय को भी तलाश है

चूनर उड़ा के ध्वज बना
गगन भी कंपकंपाएगा 
अगर तेरी चूनर गिरी
तो एक भूकंप आएगा
तो एक भूकंप आएगा
तू खुद की खोज में निकल
तू किस लिए हताश है, तू चल तेरे वजूद की
समय को भी तलाश है
समय को भी तलाश है

Monday, June 14, 2021

इक सफ़र पर मैं रहा, बिन मेरे-सूफ़ी संत जलालुद्दीन रूमी

इक सफर पर मैं रहा, बिन मेरे

उस जगह दिल खुल गया, बिन मेरे


वो चाँद जो मुझ से छिप गया पूरा
रुख़ पर रुख़ रख कर मेरे, बिन मेरे

जो ग़मे यार में दे दी जान मैंने
हो गया पैदा वो ग़म मेरा, बिन मेरे

मस्ती में आया हमेशा बग़ैर मय के
खुशहाली में आया हमेशा, बिन मेरे

मुझ को मत कर याद हरग़िज
याद रखता हूँ मैं खुद को, बिन मेरे

मेरे बग़ैर खुश हूँ मैं, कहता हूँ
कि अय मैं रहो हमेशा बिन मेरे

रास्ते सब थे बन्द मेरे आगे
दे दी एक खुली राह बिन मेरे

मेरे साथ दिल बन्दा कैक़ूबाद का
वो कैक़ूबाद भी है बन्दा बिन मेरे

मस्त शम्से तबरीज़ के जाम से हुआ
जामे मय उसका रहता नहीँ बिन मेरे

Sunday, June 6, 2021

छु कर देखू तुम्हे

 


आँखों में चुभते रहते है

तुम्हारे साथ होने के सपने

अक्सर मुझे तकलीफ देते है।

बंद आंखों से नहीं 

छु कर देखू  तुम्हे

मज़बूर करते है मुझे ।

 

वक़्त ने नमो निशान तो मिटा दिया

पर एक परछाई है जो

सुबह से रात तक साथ रहती है

मुझे मजबूर करती है

छु कर देखू  तुम्हे।

 

न फ़ोन या संदेश से

खबर आती है 

खैरियत तुम्हारी उसकी दुआ से ही

पता चलता है।

 

तुम उस चाँद की तरह हो

जो हर रोज़ अपनी जगह बदलता है

कभी छुपता है,कभी बहुत करीब होता है।

पर हमेश दूर,मेरी पहुँच से दूर होता है

और ये ख्याल मुझे मज़बूर करता है

छु कर देखू तुम्हे।

 

रिंकी

जब ख़ुदा से लव लगाई जाएगी- sanjar gazipuri

  जब ख़ुदा से लो लगाई जाएगी फिर दुआ कब कोई ख़ाली जाएगी ताकते हैं दिल वो मेरा बार बार क्या कोई हसरत निकाली जाएगी आँख मिलते ही किसी मा'शूक...