Wednesday, 4 December 2013

तेरी मर्जी है

है तेरी मर्जी है
मुझे तू चाहे या मुक़र जाए
मेरे साथ दे या न दे
मेरे बातो को सुने या अनसुना करे
देखे या मुह मूड ले

तेरी मर्जी है
पर इंसानियत भी एक शब्द
सुना है मैंने
क्या तूने भी सुना है
अगर है तो तुम्हे तो पता
होगा ही
तुम्हे हक़ है ना पसंद करने का
नही है हक़ किसी की  बेइजती करने का

अपने फयदा के लिए मेरे नुकसान पहुचाने का
अपनी मर्जी से किसी के जिंदगी से खेल जाने का
बस अपनी मर्जी के लिए
कुछ भी कर देने का

कल्पवृक्ष ! है हम सभी

बहुत देर तक चलते रहने से वो थक गया थाI एक विशाल पेड़ के नीचे आकर उसने कहा आराम कर लेता हूँ और उसका मन और शरीर थकान से मुक्त हो गयाI उसके ...