Wednesday, April 14, 2021

नया रंग

प्यार में नाकामी का तमगा हासिल है मुझे

ठीक रेल में सवार पैसेंजर की तरह

हर स्टेशन पर पुराना साथी उतरा

नया साथी बनता गया

सफ़र तो अलग बात थी

मंज़िल तक पहुंचना मुश्किल लगा मुझे।

 

रात में सन्नाटे का शोर

दिन के शोर से ज़्यादा कानो में गूंजता है।

मै अनसुना भी करू तो

अपने ही साए सा पीछा कहा छोड़ता है।

मुझे अकेला नहीं छोड़ता है।


हम सा साझदार न मिला था हमें अब तक

जब तक वो अपने बातो में इश्क को लपेटे

मेरे सामने नहीं आया था।

उस वक़्त पछताया , मोहबत में डूब जाने की

बेवकूफी क्यों नहीं की अब तक


शब्द दर शब्द बिना किसी अंतरा, लय, छंद के

कुछ लिखने की कोशिश में है

देखते है क्या बना सकता है।

शायद कविता , कहानी या कुछ और उभरे

अच्छा हो किसी दोस्त के मन में भी

इसे पढ़ कर साहित्य का नया रंग निकले।

 

 

 

रिंकी

8 comments:

  1. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (१७-०४-२०२१) को 'ज़िंदगी के मायने और है'(चर्चा अंक- ३९४०) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।

    ReplyDelete
  2. वाह कुछ अलहदा अंदाज।
    बेहतरीन।

    ReplyDelete

Thanks for visiting My Blog. Do Share your view and idea.

दिन कुछ ऐसे गुजारता है कोई - गुलजार

  दिन कुछ ऐसे गुजारता है कोई जैसे एहसान उतारता है कोई आईना देख के तसल्ली हुई हम को इस घर में जानता है कोई पक गया है शजर पे फल शायद फिर से पत...