Sunday, 25 January 2015

सरस्वती वंदना


विद्या, बुद्धि,संस्कार और समझदारी देने वाली माँ सरस्वती
मैं अपने करजोड़ तुझसे क्षमा  चाहती हूँ |
तेरे तिरस्कार,अपमान के लिए
सरस्वती पूजन में बजाए जाने वाले अश्लील संगीत
कान-फोडू अभद्र गानों के लिए|
 
आदर और सम्मान के स्थान पर मोज-मस्ती
नेतिकता को तक पर रख देने वाले वाहियात
नंगा नाच करते बच्चो के तरफ से
 
सब चलता है, संस्कृति को मानाने वाले
समाज के लोगो,माता-पिता जो कुछ ना कहा कर
इस अश्लील प्रथा को स्वकृति देने वाले |
 
पुलिस,प्रशासन के गुगेपन और बहरेपन के लिए
क्षमा  प्रार्थी हूँ |
 
मैं सोचती हूँ, जिस देश के करोड़ो बच्चे
शिक्षा से दूर है,जिस देश के बच्चे त्यहारो के नाम पर
जबरजस्ती चंदा वसूलते है |
जीवन के कीमती समय को त्यहारो के नाम पर व्यर्थ करते है |
किसी रीती-रिवाज का मूल अर्थ जाने बिना सिर्फ उसे मानते है|
मनोरंजन के नाम पर विदेशो द्वारा फलाए बाजारवाद में फसे जाते है
उस देश में इतने ताम-झाम से
विद्या दाती सरस्वती को पूजने का क्या महत्व रह जाता है?
 
हे विद्या दाती, दे दे कुछ विवेक हमें सही- गलत में भेद करे|
साहस दे बड़ो को गलत को रोक सके|
बुद्धि दे बच्चो को सरस्वती का असली मंत्र समझ सके|


Rinki

कल्पवृक्ष ! है हम सभी

बहुत देर तक चलते रहने से वो थक गया थाI एक विशाल पेड़ के नीचे आकर उसने कहा आराम कर लेता हूँ और उसका मन और शरीर थकान से मुक्त हो गयाI उसके ...