Sunday, February 2, 2014

तेरे प्यार में


ये असर है दुआओ का
मेरे आँखों को तेरा दीद हुआ
मेरा दिल तो पहले से घायल था
आज से तेरा मुरीद हुआ

छुप –छुप कर देखना
नसीब में सब के नहीं
जिसे मिली ये दौलत
वोही सूफी फ़क़ीर हुआ

तेरे प्यार में दिल,ऐसा मजबूर हुआ
एक अच्छा इंसान,इस शहर में दीवानों के

नाम से मशहूर हुआ

Rinki 

दोस्त पुराने

न जाने कितने दिनों के बाद कुछ दोस्तों से मुलाकात हुई मैं देखती उन्हें छूती उन्हें आँखों से पढ़ती यादों के पन्नों को...